क्या काम करेंगे आप? नौकरी या व्यापार..!

10176045_681706805222874_4777478284776872041_n
ज्योतिष सूत्र..!(नौकरी/व्यापार)
 
नौकरी कब कैसे कहाँ कौनसी लगेगी..?
रोजगार क्या होगा? व्यापार कैसा और कौनसी प्रकृति का?
आय के स्त्रोत कौन से होंगे? कितने होंगे? कानूनी या गैर कानूनी?
 
ये सब समझने के लिय लग्न कुंडली, चन्द्र कुंडली दोनों से द्वितीय भाव, सप्तम भाव, दशम भाव और एकादश भाव का अध्ययन किया जाए..!
पहले तो ये समझें की नौकरी या व्यापार?
दशम भाव प्रबल तो नौकरी लगेगी, सूर्य चन्द्र प्रबल तो सरकारी लगेगी.. शुक्र बुध प्रबल तो बैंक में लगेगी.. सूर्य मंगल प्रबल तो सेना पुलिस में, शनि गुरु प्रबल तो न्यायिक या गुप्तचर सेवा.. ऐसे ही हर रोजगार की अलग अलग स्थिति बना करती है..
व्यापार तो वही करेगा, जिसके आय भाव में स्थिति अच्छी है और साथ ही, द्वितीय,दशम या एकादश भाव पर 2 से अधिक ग्रहों का प्रभाव है.. सप्तम शुभ हो तो साझेदारी में व्यापार होगा..!
नवमांश और दशमांश का अध्ययन किये बिना ये भविष्यकथन अधूरे ही रहेंगे, लग्न से और चन्द्र से दशमेश की स्थिति नवमांश कुंडली में देख कर बताया जा सकता है की ये व्यक्ति क्या काम करेगा? कार्य की प्रकृति..!
एकादश भाव में ग्रहों और उस पर पड रहे प्रभावों के आंकलन से जाना जा सकता है की व्यक्ति की आमदनी शुभ मार्ग से होगी या नहीं..!
द्वितीय, दशम, एकादश पर जितने ग्रहों का प्रभाव उतने ही प्रकार से, उतने ही सम्बंधित लोगो से, उतने ही व्यापारों से लाभ संभव है..!
प्रत्येक ग्रह व भावपति के स्वभाव के अनुसार, व्यापार, नौकरी, रिश्तेदार, क्षेत्र, दिशा, प्रकृति, इत्यादि निर्धारित है.. अब देखना ये होता है की इनमे से लाभ या धन भाव पर किन ग्रहों का प्रभाव है.. बस उस दिशा,क्षेत्र, रिश्तेदार,व्यापार, नौकरी में लाभ होगा…!
सूर्य का सरकारी क्षेत्र पर प्रभाव है, व्यापार में दवाईयों पर..और स्वर्ण पर..!
चन्द्र का प्रभाव जनता पर, व्यापार में जल, दूध, और चांदी..!
मंगल का पुलिस,सेना, खेलकूद, व्यापार में भूमि, भूमि की पैदावार..!
बुध का काम एकाउंट्स का है, साथ ही ये मनोरंजन का भी काम करवाता है, जैसे standup comedians.
शनि का काम न्याय, वकालत, अभियांत्रिकी, मजदूरी, machines, oil, और लोहा, भंगार आदि..!
गुरु का काम तो विद्या,धर्म, पुस्तकें, मैनेजमेंट आदि…भोजन, शिक्षा का व्यापर..!
शुक्र तो बहुत कुछ करवाता है..बैंक में नौकरी,,फाइनेंस का काम.. शराब आदि का काम..कला में प्रसिद्धि…अभिनय..!
राहू केतु के खाते में वे काम आते हैं जिनमे गोलमाल या झोल किया जाता है.. मतलब ठगी कह लीजिये.. !
इस तरह अभ्यास से व्यक्ति की जन्मकुंडली से उसके रोजगार का आंकलन किया जा सकता है..!

13 thoughts on “क्या काम करेंगे आप? नौकरी या व्यापार..!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *