राशियों की दिशाएं और वास स्थान

astrology

राशियों की दिशाएँ एवं वास स्थान

 

मेष,सिंह व धनु की दिशा पूर्व है।
वृष, कन्या व मकर की दिशा दक्षिण है।


मिथुन, तुला व कुंभ की दिशा पश्चिम है।


कर्क, वृश्चिक व मीन की राशि उत्तर है।

अब यह समझते हैं की राशियों की दिशा जानने में हमारा क्या लाभ है?

यह मुहुर्त्त शास्त्र में सबसे अधिक प्रयुक्त होने वाला सिद्धान्त है। जिस भी दिशा में यात्रा करनी हो यदि उस दिशा के लग्न में की जाए तो यात्रा सफल हुआ करती है।
शास्त्र कहता है, “दिग्द्वार भे लग्नगते प्रशस्ते यात्रार्थदात्री जयकारिणी च”
इस के अतिरिक्त एक और तरीका है यात्रा की सफलता को निर्धारित करने का, जिस दिशा में यात्रा करनी हो, यदि उस दिशा की राशि में चन्द्रमा है तो निश्चित सफलता मिलेगी।
“हरन्ति सकलदोषं चन्द्रमा सम्मुखस्थः”

यात्रा संबंधित अनुकूलता के अतिरिक्त राशियों की दिशा का ज्ञान प्रश्न कुंडली में भी अत्यधिक उपयोगी है।
जैसे किस दिशा से लाभ होगा?
किस दिशा में गुम हुआ व्यक्ति या चोरी का माल गया?
किस दिशा से खतरा है..?
भाग्योदय किस दिशा से..?

ऐसे ही राशियों के गुण, स्वभाव,शील, रहने के स्थान, आकार ,रंग,स्वाद,धातु एवं बहुत से ऐसे ही सिद्धान्त प्रतिपादित किए गये हैं जिनका उद्देश्य प्रश्न का सटीक उत्तर देना है।

 राशि का वास स्थान

मेष:- धातु हो जहाँ, भूमि के रत्न आदि हो। जैसे कोई गोदाम वगैरा, या मशीनो के आसपास।

वृष:- खेत, गौचर भूमि, पहाड़ पर चौरस जमीन। कुश्ती,दंगल की जगह। जहाँ झगड़ा हो रहा हो।

मिथुन:- जुआ घर, भोग विलास व मनोरंजन के स्थान। आजकल की भाषा में फिल्म थियेटर, amusement Parks, डिस्को, कैबरे आदि।

कर्क:- जल स्थान। नदी तालाब जैसे।

सिंह:- घने वन, एकान्त, गुफानुमा जगह। एकान्तप्रेमी।

कन्या:- घासफूस की जगह, शिल्प कला का काम हो। जहाँ लड़कियाँ हँसी ठिठोली करे। या कढ़ाई बुनाई सीखे।

तुला:- नगर के बाजार। मंडीयाँ।

वृश्चिक:- बिल जैसी जगह। तंग गलियाँ।

धनु:- अस्तबल। खेल के स्टेडियम।

मकर:- ० से १५ डिग्री तक वन क्षेत्र १५ से ३० डिग्री तक नदी नाले।

कुंभ:- बरतन रखने की जगह, पानी रखने की जगह।

मीन:- जलराशि।

प्रश्न लग्न में वही बात देख सकते हैं की वस्तु, व्यक्ति कहाँ है? लग्न से व्यक्ति की रूचि और कहाँ वक्त बिताना चाहेगा ये लग्न या नवांश में जो बली हो उस से देख सकते हैं।

॥राम॥

 
 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *